कपूर खाने से क्या होता है ? इन हिंदी

हमारे देश में कपूर का ज्यादातर इस्तेमाल पूजा,रसोई अथवा कपडे के अलमारी या बक्से में किया जाता है। पूजा के समय कपूर को जलाकर भगवन को धुप अर्पित किया जाता है एवं रसोई या कपड़े के अलमारी में कीड़ों को भागने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। आज हम इस लेख में यह कि कपूर खाने से क्या होता है ? अगर कोई गलती से कपूर को खा ले तो क्या करना चाहिए ?

कपूर मूलतः दो प्रकार के होते हैं पहला खाने योग्य  कपूर (Edible Camphor ) एवं दूसरा कृत्रिम  कपूर (Synthetic Camphor)

कृत्रिम कपूर का इस्तेमाल पूजा पाठ एवं हवन सामग्रियों के साथ कपड़ों के अलमारी या बक्से में किया जाता है। 

किन्तु खाने योग्य कपूर का इस्तेमाल कई तरह के  रोगों की समस्याओं को दूर करने के   लिए किया जाता है  आइये हम इसके बारे में विस्तार से नीचे जानते हैं। 

खाने योग्य कपूर (Edible Camphor )

इस कपूर को भीमसेनी कपूर भी कहा जाता है। इस  कपूर को पेड़ की छाल से बनाया जाता है। यह कपूर कई तरह के रोगों को दूर करता है और  सेहत के लिए भी अच्छा होता है। कपूर का सेवन पाचन शक्ति को बढ़ाता है क्योंकि यह पेट की जठर अग्नि को ठीक करता है।

कृत्रिम  कपूर (Synthetic Camphor) –

कृत्रिम कपूर एक ज्वलनशील सफ़ेद रंग का  ठोस पदार्थ होता है जिसमे से तीखी गंध निकलती है और मेंथोल जैसे नाक में झुनझुनी पैदा करने वाली गंध होती है।  इसकी सुगंध लोगों को बहुत भाती है। इस कपूर का इस्तेमाल पूजा घरों में धूप जलाने एवं अन्य औषधीय कार्यों के लिए किया जाता है।  

भीमसेनी कपूर खाने के फायदे (Benefits of eating Camphor)

तंत्रिका तंत्र को मजबूत बनाने के लिए  –

वैसे तो घरों में पाया जाने वाला कपूर सिंथेटिक होता है इसे खाया नहीं जाता है। खाने वाला कपूर को भीमसेनी कपूर कहा जाता है इस कपूर को खाने के सिमित मात्रा निर्धारित होना चाहिए। इसे खाने से blood circulation एवं epilepsy (मिर्गी ) की बीमारी में बहुत लाभ होता है। यदि आप इसे खाना चाहते हैं तो किसी डॉक्टर की सलाह अवश्य लें। 

सर्दी खांसी में –

आज कल लोग विक्स को गर्म पानी में डालकर उसके भाप को सर्दी के समय नाक से लेते हैं। हालाँकि लोग पुराने ज़माने में गर्म पानी में कपूर को डालकर उसके भाप को ग्रहण करते थे और आज भी यह कारगर है इससे आपके बंद नाक खुल जाते हैं और साँस लेने में कोई परेशानी नहीं होती है। 

पाचन तंत्र को ठीक करने में –

भीमसेनी कपूर को पाचन तंत्र के लिए बहुत ही उपयोगी माना गया है इसका उल्लेख पुराने आयुर्वेद के ग्रंथों में भी मिलता है। यदि आपकी पाचन शक्ति कमजोर है तो यह कपूर इसे बढ़ाने में मदद मिलती है। और इसके साथ ही शरीर से विषाक्त पदार्थों को बहार निकालने में भी मदद करती है। 

कौन सा कपूर खाना चाहिए ?

आमतौर पर घरों में पाया जाने वाला कपूर सिंथेटिक कपूर होता है और उसे खाया नहीं जाता है खाने के लिए केवल भीमसेनी कपूर का ही इस्तेमाल किया जाता है। 

क्या होता  है यदि कोई घर में पाया जानेवाला सिंथेटिक कपूर को खा  ले ?

 यदि कोई गलती से कपूर  खा ले  तो उसे तुरंत चिकित्सक के पास ले जाना चाहिए क्योंकि सिंथेटिक कपूर जहर के सामान होता है खासकर यदि बच्चे इसे निगल लें तो उनकी मौत भी हो सकती है और वयस्कों को कई तरह की स्वस्थ्य सम्बन्धी परेशानियां हो सकती हैं। 

कपूर का सेवन अधिक मात्रा में होने से तंत्रिका तंत्र एवं किडनी को बहुत नुकसान होता है। 

यह आपके शरीर के gastrointestine को पूरी तरह ब्लॉक कर देता है जिससे पाचन तंत्र कमजोर हो जाता है। 

Leave a Comment