क्रेडिट कार्ड क्या है | डेबिट और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर है?

 क्रेडिट कार्ड क्या है?

क्रेडिट किसी ऐसे व्यक्ति को उपलब्ध कराई गई राशि है जो भविष्य में भुगतान करने के लिए प्रतिबद्ध है। क्रेडिट कई तरीकों से दिया जा सकता है: व्यक्तिगत ऋण, वित्तपोषण, ओवरड्राफ्ट या क्रेडिट कार्ड, जिसमें उपभोक्ता के पास खरीदारी करने की सीमा होती है। भुगतान की इस पद्धति का उपयोग करते हुए, अगले चालान की देय तिथि पर ही व्यय वसूल किया जाएगा।

क्रेडिट कार्ड क्या है | डेबिट और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर है?

क्रेडिट कार्ड कैसे काम करता है?

मान लिया कि आपके पास एक क्रेडिट कार्ड है उसकी रकम निकालने की सीमा 50,000 है। आप  इसमें से 2000 ,5000 या 10000 भी खर्च कर सकते हैं खर्च करने के 45 दिन तक बैंक आपसे कोई ब्याज नहीं लेती है पर उससे अधिक दिन हो जाये तो आपको ब्याज के साथ बैंक को पैसा लौटाना पड़ेगा।

अगर आप इस 45 दिन के cycle को फॉलो नहीं करते हैं तो अगले चक्र में मूलधन + ब्याज  के ऊपर फिर से ब्याज लगेगा इस तरह यह चक्रबृद्धि ब्याज के नियम के आधार पर काम करता है।

45 दिन का चक्र हर बैंक का नहीं होता यह अलग अलग जगहों में अलग अलग चक्र हो  सकता है।

डेबिट कार्ड कैसे काम करता है?

डेबिट कार्ड उस खाते से निकासी के रूप में कार्य करता है जिससे वह जुड़ा हुआ है। जब आप अपने डेबिट कार्ड पर किसी Product  या Service  के लिए भुगतान करते हैं, तो ऐसा लगता है जैसे आप बैंक गए, अपने खाते से कागजी पैसे निकाले, और बिलों को खरीदने के लिए इस्तेमाल किया, इस तरह केवल डेबिट कार्ड का उपयोग करना अधिक व्यावहारिक है।

सीधा सा मतलब यह है कि आप कार्ड की मदद से अपने बैंक खाते के पैसे को किसी वस्तु को खरीदी करने के लिए दे रहे हैं।

क्रेडिट पर भुगतान करने का क्या अर्थ है?

क्रेडिट पर भुगतान करने का अर्थ है कि उस राशि का भुगतान केवल तभी करना होगा जब अगला क्रेडिट कार्ड बिल समाप्त हो जाएगा। इस तौर-तरीके में, कार्ड की खरीद और समाप्ति की तारीख के आधार पर, व्यक्ति कर्ज चुकाने के लिए 45  दिनों तक कमा सकता है। लेकिन इन खर्चों को अच्छी तरह से नियंत्रित करना महत्वपूर्ण है क्योंकि रिवॉल्विंग क्रेडिट और यहां तक ​​कि कर्ज की किस्तों पर लगने वाला ब्याज आमतौर पर काफी अधिक होता है। अच्छा यह  है कि आप हमेशा उस सीमा तक खर्च करते रहें, जब आप पूरे बिल का भुगतान कर सकें।

डेबिट और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर है?

कार्ड से खरीदारी करते समय यह एक आदत बन गई है कि भुगतान डेबिट या क्रेडिट में किया जाएगा या नहीं। लेकिन क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड में क्या अंतर है? डेबिट कार्ड में आपके बैंक खाते में पैसा रहता है उसी से काट लिया जाता है।

डेबिट कार्ड में आपके खाते में पैसा नहीं है बल्कि आप बैंक से ऋण ले रहे हैं और किसी को पेमेंट कर हैं  उस amount को आपको निश्चित अवधी के बाद लौटाना है। यदि आप नहीं लौटाते हैं तो बैंक उसपर ब्याज जोड़ कर अगली अवधी में payment लौटाने को कहेगा।

 क्रेडिट कार्ड से खरीदारी कैसे काम करती है?

पासवर्ड या सुरक्षा कोड द्वारा क्रेडिट कार्ड से खरीदारी कार्ड स्वामी के अथॉरिटी के साथ काम करती है। इसके बाद, उपभोक्ता का ऋण क्रेडिट कार्ड ऑपरेटर के पास है और अब उस कंपनी के पास नहीं है जिससे उसने उत्पाद खरीदा है या सेवा का अनुबंध किया है।

कौन सा बेहतर डेबिट या क्रेडिट है?

यह तय करना कि डेबिट या क्रेडिट बेहतर है या नहीं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि खरीदारी के समय आपका वित्त कैसा है। डेबिट के साथ, जैसे ही राशि आपके खाते से तुरंत deduct कर  ली जाती है, आप यहाँ भूलने का जोखिम नहीं उठाते हैं कि आपने खरीदारी की है या किसी और चीज़ पर पैसा खर्च किया है।

क्रेडिट पर, आप भुगतान करने के लिए कुछ और दिन कमा सकते हैं। आपके क्रेडिट कार्ड के बारे में जानकारी के पहले रखने  में से एक है जो चालान बंद होने की तारीख है। इसका मतलब यह है कि आप उस तारीख और बिल की नियत तारीख के बीच जो कुछ भी खरीदते हैं, उसका बिल केवल अगले महीने के बिल पर होगा, यानी बिल को स्थगित करने के एक महीने से अधिक। क्रेडिट का एक अन्य लाभ विक्रेता की उपलब्धता के अनुसार अधिक महंगे उत्पादों को किश्तों में खरीदने में सक्षम होना है।

किसान क्रेडिट कार्ड क्या है ?

किसान क्रेडिट कार्ड किसानो को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए एक योजना है। जिसके तहत किसानो को 4 प्रतिशत ब्याज पर 3 लाख तक का लोन दिया जाता है इसकी अवधी 5 साल तक की होती है।
इसमें किसानो को अपनी जमीन को गिरवी रखनी पड़ती है।
किसान क्रेडिट कार्ड को अप्लाई करने के लिए ऑनलाइन फॉर्म भी उपलब्ध है और केवल तीन दस्तावेज आधार कार्ड, पैन कार्ड एवं फोटो की जरुरत है इसके अलावा एक शपथ पत्र देनी पड़ती है कि आपने और किसी बैंक से लोन नहीं लिया है।
आप इसे अप्लाई  लिए स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, बैंक ऑफ़ इंडिया, और नेशनल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया में जा सकते हैं।

Leave a Comment