What is FUP? FUP Full Form and Meaning In Hindi

यूं तो दुनिया में हर रोज नए नए शब्द का निर्माण होता रहता है। पर जब से internet का आगाज हुआ है तब से  हमें और भी  बहुत सारी नए- नए शब्दों से सामना हुआ है।आज उन्हीं नए शब्दों में से एक के बारे में हम लोग बात करने जा रहे हैं और वह शब्द है  एफ यू पी।  जी हां आज हम लोग जानेंगे कि FUP क्या है।  FUP का मतलब क्या है अथवा FUP शब्द किस चीज से संबंध रखता है?

FUP क्या है ?

What is FUP? FUP Full Form and Meaning In Hindi

FUP का अर्थ है उचित उपयोग नीति। अंग्रेजी में इसे fair usage policy कहते हैं। इसे telecom service provider नेटवर्क द्वारा लागू किया जाता है  जिसमें  इंटरनेट के डाटा की है भारी प्रयोग करने वालों के लिए एक इंटरनेट की गति सीमा control करता है। कुछ इंटरनेट यूजर इंटरनेट के डाटा को बहुत अधिक प्रयोग करते हैं आठवां दुरुपयोग करते हैं ऐसा करने पर अन्य उपयोगकर्ताओं के लिए सेवाएं बाधित हो सकती हैं। यह FUP limit, अनलिमिटेड यूसेज प्लान के लिए बनाई गई है ताकि customer एक निर्धारित लिमिट से आगे नहीं जाए। 

अगर इंटरनेट की FUP लिमिट पार हो जाती है तो इसकी speed स्लो हो जाती है talktime बंद हो जाता है। आगे इसका उपयोग जारी रखने के लिए आपको शुल्क देना पड़ता है। 


FUP कैप कब लगता है ?

किसी भी टेलीकॉम  नेटवर्क company के प्लान्स 1 GB, 2  GB  या 1. 5  GB होते है।  इस तरह के प्लान्स प्रतिदिन के लिए दिए जाते हैं।  पर जब यह प्लान दिन में खत्म हो जाते हैं तो इंटरनेट का यूसेज रुकता नहीं चलता ही रहता है पर कम स्पीड पर इसे ही FUP कैप कहा जाता है। अगर जिओ की बात करें तो इसमें डेली प्लान खत्म होने के बाद 128 एमबीपीएस की स्पीड से इंटरनेट चलता है। अगर कॉल की बात करें तो  जिओ नेटवर्क से अन्य नेटवर्क में calling     करने पर मासिक 1000 मिनट फ्री दिए जाते हैं परंतु यह खत्म होने पर आपको एक्स्ट्रा चार्ज देने पड़ते हैं मतलब फिर से recharge करने पड़ते हैं।

    

ये भी पढ़ें


अनलिमिटेड डाटा कहा जाता है पर FUP क्यों होता है?

टेलीकॉम operators companies वास्तव में अपने पैक पर unlimited डाटा लिखती है  उस पर भी FUP पॉलिसी क्यों अपनाती  है। 2012 में एक रिपोर्ट में कहा गया कि TRAI भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण ने यह जारी किया की Broadband कनेक्शन देने वाली कंपनियों को यूजर  को स्पष्ट रूप से सभी जानकारी दिया जाना चाहिए और विज्ञापन के लिए कुछ हिस्से का उपयोग करके धोखा नहीं देना चाहिए। यह दिशा निर्देश जारी करने के बाद अब भी इन टेलीकॉम कंपनियों द्वारा उसी तरह का व्यवहार किया जा रहा है। यह निश्चित ही धोखा है क्योंकि एक निश्चित अवधि के बाद हमारे इंटरनेट की गति को कम कर दिया जाता है।

अमेरिका में आमतौर पर कैप की सीमा 300gb है  परंतु भारत में हमें शुरुआत से ही ऐसी ट्रेनिंग दी गई है यह हम छोटे से इंटरनेट के डाटा को प्रयोग करते आ रहे हैं। इसलिए भारतीय कंपनियां हमें अपने अनुसार ढाल रही हैं अपने फायदे के  अनुसार हमें ढाला जा रहा है भारत सरकार भी कागज की जरूरतों को पूरा करने के लिए डिजिटल इंडिया और डिजिटल दस्तावेजों की बात करती है। हमें इन सब को जानना जरूरी है और FUP को हटाना है। 

 

ये भी पढ़ें

रिलायंस जिओ का नेट बैलेंस कैसे चेक करें(How To Check Reliance Jio Plan Balance)

 

Laptop Me Android Apps Kaise Download Karen

दोस्तों आज की article के द्वारा आप ने  यह जाना कि यह FUP क्या है कंपनियां अपनी data pack पर क्यों ऐसी लिखा करती है हमें सजग होने की जरूरत है और जब  हमें इन सब के बारे में जानकारी प्राप्त होगी तब केवल हम अपने अधिकारों को जान पाएंगे एवं उसको पाने के लिए प्रयासरत रहेंगे। 

 

Leave a Comment