FASTAG KYA HAI IN HINDI AUR YAH KAISE KAM KARTA HAI

 दोस्तों आज के  इस लेख में हम फास्टैग के बारे में बात करेंगे क्योंकि भारत सरकार ने 1 दिसंबर 2019 से फास्टैग को अनिवार्य कर दिया है अब सभी चार पहिया वाहनों में फास्टैग लगाना जरुरी है।  आइये जानते हैं हमारे सरकार का मुख्य उद्देश्य के है इसके पीछे और यह भी जानेंगे कि फास्टैग क्या है और कैसे काम करता है ?

फास्टैग क्या है ? और यह कैसे काम करता है?(What is fastag? How does it work?)

फास्टैग एक  यंत्र है जो कि toll Plazas लगा होता है। यह सिस्टम रेडिओ फ्रीक्वेंसी  के द्वारा काम करता है। जब भी कोई गाड़ी टोल नाका से गुजरती है तो यह यंत्र गाड़ी के windshield  पर लगे टैग को स्कैन करता है और उसके अकाउंट से  टोल टैक्स काट लेता है। यह यंत्र हमारे काम करने की स्पीड को बढ़ाता है इसलिए इसे fastag कहा जाता है। 

साधारणतः जब कभी  हम टोल पलाज़ा गुजरते हैं तो हम देखते हैं की वहां पर गाड़ियों की लम्बी कतार लगी होती है और इससे हमारा बहुत समय बर्बाद होता है इसके साथ-साथ हमारा ईंधन भी बर्बाद होता है। इन सभी असुविधाओं को देखते हुए भारत सरकार ने 2014 में इस व्यवस्था की शुरुआत की है जो कि अब सारे भारत देश में अपनाने की कोशिश की जा रही है।  

 

      फास्टैग के फायदे -(Benefits of Fastag)

fastags के रहने से हमारा काम जल्दी तो होता ही है और इसके साथ हमारी ईंधन की भी बचत होती है।टोल प्लाजा के इलाके में प्रदुषण बढ़ जाता जब vehicle स्टार्ट की अवस्था में रहती है तो हमें इससे निजात मिलती है। 

  टोल प्लाजा के कर्मचारियों को चेंज के लिए इधर-उधर भटकना भी नहीं पड़ता है और समय की  बचत होती है। 

साथ ही साथ बहुत सारी गाड़ियों के वहां पे खड़े होने के कारन एक्सीडेंट की संख्या में भी वृद्धि होती है फास्टैग के आने से इसमें कमी देखी  जा सकती है 

टोल प्लाजा हमें डाटा संग्रह करने में भी मदद करती है जैसे कि कितनी गाड़ियां आज यहाँ से गुजरी और उसका समय भी जाँच कर सकते हैं। और जरुरत पड़ने पर गाड़ियों को ट्रेस किया जा सकता है। 

फास्टैग कहाँ बनता है ?(where to get fastag? )

फास्टैग बनवाने लिए  आप किसी भी toll plaza के एजेंसी के पास जाकर अपना फास्टैग एवं स्टीकर के लिए आवेदन दे सकते हैं और वहां से प्राप्त कर सकते हैं।  इसके अलावा अभी आईसीआईसीआई बैंक , एचडीएफसी बैंक और एक्सिस बैंक से प्राप्त कर सकते हैं। इसमें और भी अन्य बैंको को जल्द ही शामिल कर लिया जायेगा।।

आप गूगल प्ले स्टोर के apps या पेटीएम app के जरिये भी फास्टैग का आवेदन कर सकते हैं। 

आप फास्टैग के लिए online या बैंको में जाकर आवेदन दे सकते हैं। 

इस फास्टैग खाते के साथ आप अपना बैंक अकाउंट भी संलग्न कर सकते हैं। 

 

फास्टैग बनवाने के लिए जरुरी दस्तावेज -(Document needed for FASTag )

फास्टैग बनवाने  के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की जरुरत होती है –

1. वाहन पंजीकरण प्रमाण पत्र (आर सी ) 
2. पासपोर्ट साइज फोटो। 
3. के वाई सी के लिए कोई एक documents जिसमे आपका पता अंकित हो।
इन सभी दस्तावेजों को लेकर नजदीकी एजेंसी या बैंक में जाकर अप्लाई कर सकते हैं।  

फास्टैग को कैसे रिचार्ज करें(How to recharge Fastag )

fastag का रिचार्ज आप १०० रूपये से लेकर एक लाख रुपया तक कर सकते हैं। 

फास्टैग रिचार्ज करने के लिए आप डेबिट कार्ड ,क्रेडिट कार्ड या नेट बैंकिंग का भी उपयोग कर सकते हैं इसके अलावा आप अपना bank खाता भी इससे जोड़ सकते हैं।  

पेटीएम वॉलेट से भी आप अपना फास्टैग जोड़ सकते हैं। इसके  लिए आपको पेटीएम वॉलेट में पैसा डालना होगा। 

दोस्तों, अब आपको जानकारी मिल गयी होगी कि फास्टैग क्या  है और कैसे  काम करता है? एवं इसको कहाँ से प्राप्त कर सकते हैं। मुझे आशा है कि ये पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकि मुझे प्रोत्साहन मिले और मैं ऐसा ही पोस्ट आगे भी लिखता रहूं। 

FAQ

Q1मैं अपना फास्ट टैग कैसे रिचार्ज कर सकता हूं?

आप आप अपने फास्टैग account को रिचार्ज करने के लिए चेक के द्वारा या ऑनलाइन या फिर क्रेडिट कार्ड या डेबिट

कार्ड के द्वारा कर सकते हैं इसके अलावा आरटीजीएस और  एनईएफटी भी कर सकते हैं .

Q2मैं अपना फास्टैग कहां  चिपकाऊँ ?

फास्टटेक को आप अपने   गाड़ी की विंडस्क्रीन पर लगाएं। 

Q3 भारत में फास्टैग कब से लागू है?

भारत में फास्टैग 1 दिसंबर 2019 लागू किया गया है। 

Q4फास्टैग के लिए किसे नामांकन करना चाहिए। 

फास्टैग के लिए जिसके नाम से वाहन रजिस्ट्रेशन है उसी मालिक के नाम से ही टोल कटेगा।

Leave a Comment